BTemplates.com

Header Ads

नहीं बस्ती किसी और की सूरत अब इन आँखों में



नहीं बस्ती किसी और की सूरत अब इन आँखों में
काश की हमने तुझे इतने गौर से ना देखा होता ।

Post a Comment

0 Comments